वास्तु का आपके अध्ययन कक्ष पर कैसे असर पड़ेगा ?

अध्ययन कक्ष ऐसी जगह है जहाँ व्यक्ति अपनी पढ़ाई पर सावधानी से ध्यान केंद्रित करने के लिए बैठता है । इस कमरे का घटनास्थल वास्तु मानकों के अनुसार उचित जगह और दिशा होना चाहिए । इस कमरे के स्पंदन अप्रगट शोर मचाते हैं जिससे वह अनाकर्षक बन जाता है । अगर किताबें, मेज की जगह उचित तरीके से रखी होगी तो कमरे से बदले में विश्वसनीयता से शांति मिलती है और असमान्य विद्या प्रदान करता है ।

अध्ययन कक्ष के लिए वास्तु तथा अनुकूल दिशाएँ -

अध्ययन कक्ष अनुकूल तथा शुभ दिखनेवाली दिशाओं में स्थित होनी चाहिए । अध्ययन कक्ष के लिए वास्तु सिध्दांतो के अनुसार इन दिशाओं से पढ़ाई के दौरान छात्र की एकाग्रता बढ़ती है । यह सुनिश्चित करें कि अध्ययन कक्ष में आईने का प्रतिबिंब न हो जिसके परिणामस्वरूप छात्र पर प्रभाव हो सकता है । छात्रों का अनुकूल दिशाओं से सामना होने पर वे सही तरह से सक्रिय महसूस करते हैं और एकाग्रता की स्तर को बढ़ावा देते हैं तथा उनके अजना चक्र को सक्षम करते हैं । अगर छात्र स्तंभ के नीचे बैठा है तो उसकी पढ़ाई पर प्रभाव पड़ता है और वो दबाव महसूस करता है ।

अध्ययन टेबल की स्थिति

अध्ययन कक्ष के लिए वास्तु के अनुसार, अध्ययन टेबल की व्यवस्था अच्छी एकाग्रता के लिए बुनियादी आवश्यकता माना जाता है । आप अध्ययन टेबल की जगह इस प्रकार से रखें कि अध्ययन करते समय छात्र अपनी सबसे अनुकूल दिशा में बैठें । छात्र के सामने खुली जगह हो जिससे साफ विचारों को विकसित करने में मदद हो सकें ।

अध्ययन कमरे की दीवारों का रंग

अध्ययन कमरे की दीवारों के रंग हमेशा हल्के रंग से रंगने चाहिए जैसे कि अध्ययन कक्ष के लिए वास्तु से यह साबित हो गया है कि हल्के रंग छात्र की एकाग्रता की शक्ती में वृध्दि करने लिए खासकर आशाजनक साबित हो रहे हैं । साथ ही अध्ययन के कमरे के लिए गहरे रंगो का इस्तेमान करने से बचना चाहिए ।

अध्ययन कमरे में प्रकाशयोजना –

अध्ययन करने की क्षमता पर रोशनी का अत्यंत निर्णायक प्रभाव होता है । अध्ययन कक्ष के लिए वास्तु के अनुसार बहुत अच्छी रोशनी होना हमेशा लाभदायक है । मंद रोशनी बच्चों की एकाग्रता तथा ध्यान देने की शक्ति को कमजोर कर देती है । किसी भी छात्र के लिए सूरज की रोशनी यह सबसे अच्छा प्रकाश संभव है ।

अपना व्यक्तिगत वास्तु नकाशा प्राप्त कीजिये और यह वास्तु नकाशा आपके कार्यस्थल तथा घर से सुसंगत है या नही इसका विश्लेषण कीजिये ।