क्या आप वास्तु शास्त्र में विश्वास करते हैं और अपना घर या दुकान वास्तु अनुरूप बनाना चाहते हैं? लेकिन, क्या आप चाहते हैं कि आपकी दिशाओं के अनुरूप यह कार्य बिना किसी संरचनात्मक परिवर्तन या टूट-फूट के पूरा हो? सरल वास्तु के पास आपके इन सब सवालों का जवाब है।

सरल वास्तु उन लोगों को वास्तु परामर्श प्रदान करता है जो आवासीय, वाणिज्यिक और औद्योगिक क्षेत्रों में संपत्ति खरीदने की योजना बना रहे हैं। सरल वास्तु परामर्श उन लोगों को भी प्रदान किया जाता है जिन्होंने पहले से ही कोई जगह खरीद या लीज़ पर ली हुई हो।

हमारे पास वास्तु परामर्शदाताओ की एक प्रतिभाशाली और अनुभवी टीम है, जिसे सरल वास्तु के बारे में गहराई से जानकारी है। उनकी इसी विशेषज्ञता के द्वारा हम बिना किसी संरचनात्मक परिवर्तनों व टूट-फूट के अच्छे व प्रभावी वास्तु समाधान प्रदान करते हैं जिन्हें आसानी से अपनाया जा सके।

सरल वास्तु के अनुसार, आपके जीवन की हर समस्या का समाधान आपके घर में ही मिल सकता है। हमारे वास्तु विशेषज्ञ आपको आपकी परेशानियों का सही समाधान निकालने में मदद करते हैं।

सरल वास्तु विशेषज्ञ आपको जीवन से संबंधित हर परेशानी का हल खोजने में आपकी मदद करते है चाहे वह स्वास्थ्य, धन, कैरियर, विवाह, शिक्षा, रचनात्मकता, रसोई, दरवाज़े, शयनकक्ष, अध्ययन कक्ष, पूजा कक्ष, व्यवसाय, दुकानें, कार्यालय, कॉर्पोरेट कंपनी, कारखाने, अस्पताल, उद्योग ,होटल, शैक्षिक संस्थान आदि से संबंधित जुड़ी समस्याएं ही क्यों न हो। इनका सरल और सटीक उपाय देना ही हमारा मुख्य उद्देश्य होता हैं।

आज हम 800 से अधिक वास्तु विशेषज्ञों के साथ, भारत के हर राज्य में अपने सरल वास्तु के ज्ञान द्वारा, पूरे भारत में लाखों लोगों को सही व उचित परामर्श प्रदान करके उनके जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने का कार्य कर रहे हैं। प्रतिदिन, हमारा यही उद्देश्य है की हम उन लोगों के जीवन से जुड़ी हर समस्याओं को दूर करने के लिए तत्पर रहें और ये कार्य हम पूरी ईमानदारी से करने के लिए प्रयासरत भी हैं। सरल वास्तु के माध्यम से हमारा ये उद्देश्य रहता है कि हर रोज़ लगभग 2,000 से अधिक लोगों की हमारे परामर्श द्वारा सहायता की जा सके।

सरल वास्तु परामर्श सभी प्रकार की संपत्तियों व इमारतों जैसे घर, कार्यालय, उद्योग, व्यावसायिक प्रतिष्ठान, लॉज या होटल, शैक्षिक संस्थान, मॉल आदि की सही संरचना व उन्हें वास्तु अनुकूल बनाने में मदद करता है।

``सरल वास्तु के साथ दुनिया भर से लाखों लोग जुड़े हुए है जिन्होंने अपने जीवन से जुड़ी अनेक समस्याओं का सही समाधान सरल वास्तु के जरिये पाया है और आज वे सभी एक खुशहाल और समृद्ध जीवन जी रहे हैं``

हम आपकी और आपके परिवार की सफलता के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं। यदि आप हमारे द्वारा दिये गए सभी दिशा निर्देशों का सही रूप से पालन कर उनका कार्यान्वयन करते है तो केवल 3 से 8 महीने के भीतर, सरल वास्तु के सभी सिद्धांतों से आपकी सभी इच्छाओं की पूर्ति होती हैं।

प्रत्येक घर व कार्यस्थल में जीवन से संबंधित विभिन्न भाग होते हैं जो धन, स्वास्थ्य, कैरियर, शिक्षा, विवाह और संबंध आदि के लिए उत्तरदायी होते हैं। ऊर्जा और दिशाओं के बीच एक सशक्त संबंध होता है। इस वजह से, यह या तो एक व्यक्ति को सफलता के शिखर पर ले जा कर उनके जीवन को खुशहाल बना सकता है या वह उस व्यक्ति को मानसिक तनाव, आघात और परेशानियों से भरा जीवन जीने को मजबूर कर सकता हैं।

धन, स्वास्थ्य, कैरियर, शिक्षा, विवाह और संबंध से संबंधित जैसी सभी समस्याओं का मूल कारण आपके सात चक्रों का असंतुलन है। यह नकारात्मक असंतुलन किसी भी व्यक्ति के लिए प्रतिकूल दिशाओं के ग़लत प्रभाव से होता है।

सात चक्रों को लगातार चैनलाइज और सक्रिय कर के एक सुखी जीवन जिया जा सकता है। यह तब होता है जब मनुष्य हमेशा सकारात्मक ऊर्जा से घिरा हुआ है और वे अपनी अनुकूल दिशाओं का पालन करता है।

अपने सात चक्रों को खोलना या सक्रिय करना और ऊर्जा के स्वस्थ प्रवाह को संतुलित रखते हुए अच्छे स्वास्थ्य और सकारात्मक विचारों को बनाए रखा जा सकता है। चक्र विभिन्न रंगों की विद्युत ऊर्जा के चरखे की तरह होता हैं जो हमारे आस पास की ऊर्जा, शरीर और सभी और मौजूद कॉस्मिक ऊर्जा क्षेत्र को सही से कार्य करने के लिए जोड़े रखता है।

अपने अनुकूल दिशाओं के जरिये उचित प्रयास करके, आप अपने लिए सफलता के मार्ग को प्रशस्त करते हैं। हमारे वास्तु सलाहकार आपको आपके जीवन को बेहतर बनाने में मदद करते हैं और आपके दिन-प्रतिदिन के जीवन में सरल वास्तु की सहायता से समृद्धि व सुरक्षा लाने का कार्य करते हैं।

आज ही वास्तु परामर्श लेने के लिए हमसे संपर्क करें!

उत्तर प्रदेश वैदिक वास्तु सभ्यता का केंद्र रहा है, उत्तर प्रदेश में वास्तु और वास्तु सलाहकारों के बारे में सब कुछ जानने के लिए यहां क्लिक करें।

महाराष्ट्र संतों और आध्यात्मिकता की भूमि है जो महाराष्ट्र की संस्कृति को जीवंत रूप देता है। वास्तु और वास्तु सलाहकारों के बारे में और जानने के लिए और/आगे पढ़ें।

कर्नाटक, वास्तु के आधार पर विभिन्न समय कालों में वास्तुकला की बहुमुखता व वशेषता को बताता आया है। कर्नाटक में हमारे वास्तु सलाहकारों से वास्तु के बारे में अधिक जानकारी लें।

तमिलनाडु सभ्यताओं की मातृभूमि है जहाँ वास्तु की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका थी। आपकी सभी वास्तु आवश्यकता के लिए हमारे वास्तु सलाहकारों से परामर्श करें।

राजस्थान महलों के लिए जाना जाने वाला प्रदेश है, और जयपुर शहर वास्तु विद्या व प्राचीन वास्तु सिद्धांतों के उपयोग का एक अनूठा उदाहरण है। यहां हमारे वास्तु सलाहकारों से अधिक जानकारी प्राप्त करें।

गुजरात प्रदेश को पत्थर की बहुतायतता के रूप में जाना जाता है। इसके साथ ही शुरुआत से ही गुजरात में वास्तु के उपयोग व उपस्थिति का शानदार इतिहास रहा हैं। गुजरात में वास्तु से संबंधित सभी बातों के लिए हमारे वास्तु सलाहकारों से मिलने हेतु यहां सम्पर्क करें।

गोवा को सबसे बड़ा और प्रभावशाली किलों व जगहों का राज्य माना गया है। गोवा में वास्तु और वास्तु सलाहकारों से इसकी पूरी जानकारी प्राप्त करें।

मध्य प्रदेश को” हार्ट ऑफ इंडिया’ यानी “भारत का दिल” के रूप में जाना जाता है और यह यहाँ की आश्चर्यजनक वास्तुकला से स्पष्ट प्रमाणित होता है। मध्य प्रदेश में वास्तु और वास्तु सलाहकार के बारे में अधिक जानने के लिए यहां क्लिक करें।

दिल्ली, महाभारत काल से ही इतिहास के चिन्हों के साथ ही सबसे शक्तिशाली सम्राटों द्वारा शासित राज्य रहा हैं। दिल्ली में वास्तु और वास्तु सलाहकार के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

प्राचीन स्थापत्य कला अथवा आर्किटेक्चर के साथ वास्तु के उपयोग ने आंध्र प्रदेश को ऐतिहासिक महत्व दिया है। आंध्र प्रदेश में वास्तु और वास्तु विशेषज्ञों के बारे में यह और पढ़ें।

बिहार भारत के पूर्वी भाग में स्थित है और प्राचीन स्मारकों के लिए प्रसिद्ध है। बिहार में वास्तु और वास्तु सलाहकार के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

हम तेलंगाना में एक प्रमुख वास्तु सलाहकार हैं जिसका उद्देश्य हमारे अनूठे और वैज्ञानिक वास्तु समाधानों और वास्तु उपायों के माध्यम से समाज में खुशी फैलाना है।