विशुध्द चक्र ( इसे विशुध्दी चक्र अथवा कंठ चक्र भी कहा जाता है ) । मानवी शरीर का पाँचवा प्राथमिक चक्र है । विशुध्द चक्र यह संस्कृत शब्द है जिसका मतलब है शुध्द करना अथवा प्रक्षालन करना और यह चक्र प्रक्षालन न केवल शारीरिक स्तर पर लेकिन रूह तथा मन के स्तर पर भी दर्शाता है । आत्मा से सत्य को व्यक्त करना यही इसका मुख्य हेतु है । यह चक्र संचारण तथा वक्तृत्व का केंद्र है और श्रवण शक्ति तथा सुनने की शक्ति को नियंत्रित करता है । यह व्यक्ति को संवाद करने का तथा चुनने का अधिकार देता है ।

यह चक्र कमल के साथ सोलह पंखुड़ियाँ से प्रतीकात्मक रूप से दर्शाया जाता है जिसमें हर पंखुड़ी सोलह विशेषताओं का प्रतिनिधित्व करती है जिसे व्यक्ति संभवतः महारत हासिल कर सकता है । ( सोलह पंखुड़ियाँ संस्कृत के सोलह स्वरों का प्रतिनिधित्व करते हैं ) । इसका मंत्र ` हम ‘ है और इसका रंग निला है ।

विशुध्द चक्र का स्थान

विशुध्द चक्र गले की ओर खुलता है और तिसरे तथा पाँचवे गर्दन के रीड़ के जोड़ ( व्हटिब्रे ) में स्थित होता है ।

विशुध्द चक्र से संबंधित अवयव तथा बीमारियाँ -

विशुध्द चक्र मुख्य रूप से मुँह, दाँत, जबड़े, गला, गर्दन, भोजन नलिका, थायरॉइड ग्रंथी और रीढ़ की हड्डी के कार्यों को नियंत्रित करता है ।

पीड़ादायक गला, कान में इन्फेक्शन, पीठ तथा गर्दन में दर्द, थायरॉईड के विकार और दाँत तथा मसूढ़ों की तकलीफें यह इस चक्र की वजह से आनेवाली कुछ शारीरिक समस्याएँ हैं । कमजोर संवाद, दुर्बल श्रोता, बातों में हकलाहट होना, कमजोर आवाज़ और वर्चस्व दिखाकर से बातें यह समस्याएँ निष्क्रिय कंठ चक्र की वजह से आनेवाली मानसिक तथा भावनिक कठिनाईयाँ हैं ।

अवरूध्द तथा असंतुलित विशुध्द चक्र की वजह होनेवाली समस्याएँ -
  • अति सक्रिय विशुध्द चक्र –
    अति सक्रिय विशुध्द चक्र की वजह से व्यक्ति बातें करते वक्त चिल्लाता है तथा उनको बोलने तथा उनका सुने बिना ही दूसरों पर अधिकारवाणी से बातचीत करता है । उनका आवाज ऊँचे स्वर में तथा कर्णवेधी होती है और वे आलोचनात्मक हो जाते हैं तथा चीजों का अतिविश्लेषण करतें हैं ।
  • असामान्य रूप से सक्रिय विशुध्द चक्र –
    जो व्यक्ति धीरे-धीरे बातें कर है, डरकर बातें करता है अथवा हकलाता है उसका कंठ चक्र असामान्य रूप से निष्क्रिय होता है । ऐसे लोगों को बातचीत की शुरूआत करने में कठिनाई होती है तथा बोलते समय उचित शब्दों का उपयोग करने में मुश्किल होती है ।
संतुलित विशुध्द चक्र के लाभ -

संतुलित विशुध्द चक्र वाले लोगों का आवाज सुस्पष्ट तथा अनुकंपन ( रेजोनन्स ) के साथ, साफसुथरी तथा लय में होती है ।

विशुध्द चक्र को खोलना -
  • विशुध्द चक्र से विचारों का आदान प्रदान नियंत्रित होता है इसलिए सत्य बोलना तथा किसी के विचार व राय को व्यक्त करने से यह चक्र खुल जाता है । व्यक्ति अपनी अंदर की भावनाएँ व्यक्त करने के लिए और अपनी आत्म-विशिष्टता को जानने के लिए डायरी को रख सकता है ।
  • जप करना तथा गायन ( और अन्य कलात्मक गतिविधियाँ जैसे चित्र या कलाकृतियाँ के रूप में ) की वजह से विशुध्द चक्र खुल सकता है ।
  • अवरूध्द तथा असंतुलित विशुध्द चक्र ध्वनि, मंत्र तथा रंगों से खुल सकता है । ध्यान करते समय सकारात्मक विचार तथा निले रंग की कल्पना करना यह इस चक्र को खोलने का दूसरा तरीका है । बैठकर अथवा नीले आसमान के नीचे तथा समंदर या झील जैसे शुध्द नीले रंग के पानी के पास बैठकर ध्यान केंद्रित करने की सलाह दी जाती है ।
  • अक्वामरिन, नीला टर्मलाइन, लापीस लाजुली, फिरोज़ा आदि सहित कंठ चक्र को संतुलित करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है ।
  • हालांकि अवरूध्द चक्र सबको प्रभावित करता है छात्रों को विशुध्द चक्र को खोलने के लिए विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है । छात्रों का कमरा हमेशा वास्तु शास्र के अनुरूप होना चाहिए तथा छात्रों ने पढ़ाई करते समय उसकी / उसकी अनुकूल दिशा का सामना करना चाहिए ।
  • जादा पानी की मात्रा होनेवाले खाद्य पदार्थों की वजह से चक्र खुलता है जिसमें फल, सब्जियाँ तथा ज्यूसेस् आदि शामिल हैं ।
  • सुगंध चिकित्सा के उपायों में चंदन, गुलाब, येलांग-येलांग आदि आवश्यक तेलों से ध्यान करते समय तथा पढ़ाई करते समय चक्र के स्थान पर मालीश किया जा सकता है ।