वास्तु का आपके कंपनियों पर कैसे असर पड़ेगा ?
corporates

बहुत ही कठीन परिस्थितीयों में जीवित रहने के मुख्य कारण से व्यापार और वाणिज्य की व्यावसायिक दुनिया पूरी तरह से मुनाफे पर निर्भर होती है । विशेष रूप से पहली बार बने व्यवसायी उनके विचारों के अनुसार पर्याप्त संसाधन खोजने में कठनाई महसूस करते हैं और अगर वे सफल भी हो गए तो अपने शुरूआती छोटे व्यवसाय में लाभ अर्जन की स्थिति के अलावा ब्याज के उच्च दर तथा वाणिज्यिक सेवा उनके लिए मुश्किल से छुटनेवाली समस्या बन जाती है । आशंका, निराशा, अपने आप में विश्वास की कमी इन गुणों से प्रतिदिन परिचित हो जाते हैं । उनका सौभाग्य तथा सुनहरी क्षतिपूर्ति सरल वास्तु के कंपनियों के लिए वास्तु सिध्दांतो के रूप में इंतजार करती है । उनके कार्यस्थल या प्रतिष्ठान (कारखाने) इत्यादी का उचित सर्वेक्षण करने के बाद सरल वास्तु कंपनियों के लिए वास्तु सिध्दांतो के प्रयोग से निःसंदेह और निश्चित रूप से सफलता का आश्वासन अवश्य देता है।

कंपनियों में चैतन्यपूर्ण कार्य परिसर के लिए वास्तु –

विभाग, निदेशक, बैठने के स्थान तथा प्रमुख सदस्यों की योग्य दिशाएँ जैसे निर्णायक घटकों पर ध्यान देकर कंपनीयों में उल्लेखनीय सकारात्मक बदल सरल वास्तु कंपनीयों के लिए वास्तु द्वारा प्रदान किये जाते हैं ।

कोई भी संरचनात्मक परिवर्तन अथवा पुर्नविकास के बिना आस्थापन के वर्तमान योजना का प्रयोग कर व्यवसायी उसके कार्यस्थल अथवा युनिट के कार्य परिसर के वातावरण में उल्लेखनीय परिवर्तन प्राप्त कर सकता है । सिर्फ उनको परिसर में महत्त्वपूर्ण स्थानों की अनुकूल दिशाओं का पालन करने की जरूरत है । कंपनीयों के लिए वास्तु सिध्दांतो के अनुसार प्रमुख कर्मचारीयों की बैठने की जगह, वित्त, मानव संसाधन, ग्राहक सेवा जैसे महत्त्वपूर्ण विभागों की स्थिति की योजना बनाई जानी आवश्यक है । उल्लेखनीय परिणाम प्राप्त करने के लिए कार्यालय के प्रमुख ऊर्जास्थानों की देखभाल करने से सकारात्मक ऊर्जा तरंगो की उच्चबिंदू से सबसे चैतन्यपूर्ण, फुर्तीला, आनंदी तथा उत्साह से काम करने के लिये वातावरण प्राप्त होता है । चैतन्यपूर्ण माहौल से मानव संसाधनों की उत्पादनक्षमता में वृध्दि होती है और उससे कंपनी अपने ग्राहकों तथा मुवक्किलों को अधिक प्रभावी उत्पादन प्रक्रिया तथा सेवा प्रदान कर सकते हैं ।

अपना व्यक्तिगत वास्तु नकाशा प्राप्त कीजिये और यह वास्तु नकाशा आपके कार्यस्थल तथा घर से सुसंगत है या नही इसका विश्लेषण कीजिये ।