Borewell Direction

बोरवेल की उत्तरपूर्व (ईशान) दिशा के अलावा अन्य किसी भी दिशा में उसकी उपस्थिति, वह चर्चा करने और समझने के लिए बहुत ही महत्त्वपूर्ण मुद्दा हैमाना जाता है कि यदि उत्तरपूर्व (ईशान) दिशा घर के सामने आती हो और उसी दिशा में बोरवेल स्थापित किया जाये तो यह घर मालिक के लिए बहुत ही लाभदायी साबित होता है और इस वजह से परिवार की आर्थिक परिस्थिति में सुधार आता हैयदि उत्तरपूर्व (ईशान) दिशा, घर के अन्य किसी भी हिस्से में होती है, तब भी वह परिवार के लिए किसी भी प्रकार की समस्या खड़ी नही करती ।लेकिन यही, उत्तरपूर्व (ईशान) दिशा घर के पिछले हिस्से आती हो और उस दिशा में बोरवेल लगाया जाये तो उस परिवार के लिए हरएक प्रकार की आर्थिक समस्याओं का वह कारण बन सकता है और उस घर में रहनेवाले परिवार के लिए हरएक संभावित मार्ग से नकारात्मक शक्तियों का दबाव होगा

इस विषय में यदि कहुंगा कि, किसी भी व्यक्ति को इस बात को ऑखें मूंदकर मान लेना जरुरी भी नही हैऐसे बहुत से किस्से उठाकर देख सकते है कि, जहॉ बोरवेल उत्तरपूर्व (ईशान) दिशा की ओर लगाया गया हो और वह हिस्सा भी मकान के पीछे का भाग हैआईये, अब हम परिवार द्वारा झेली जानेवाली समस्याजनक परिस्थिति का विश्लेषण करेंप्राचीन काल से राजाओं, महाराजाओं, नवाबों के महलों के सामने फव्वारों का प्रयोग होता था, ऐसे फव्वारों में अधिक मात्रा में पानी के निरंतर प्रवाह बहने की वजह से सकारात्मक ऊर्जा पैदा होती हैउसी प्रकार जब घर के बराबर सामने ही बोरवेल का निर्माण किया जाये तो इसका अर्थ यह हुवा कि, प्राथमिक तौर पर वह सकारात्मक कम्पनों को पैदा करता है

इस तर्क का समर्थन करते हुए मुझे आपके समक्ष एक अन्य उदाहऱण प्रस्तुत करना होगाकर्नाटक के हवेरी नगर स्थित एक घर के बिलकुल सामने उत्तरपश्चिम दिशा आती थीजब बोरवेल का ड्रिलिंग २०० फुट तक किया गया तब उन्हें ४ इंच भरा पानी का स्तर प्राप्त हुआलेकिन तभी स्थानिक वास्तु विद्वान की सलाह पर बोरवेल को पत्थरों से बंद कर दिया गयावास्तु विद्वानो द्वारा बताई शुभ दिशा उत्तरपूर्व (ईशान) दिशा में एक नये बोरवेल के लिए ड्रिलिंग किया गयाउस जगह पर ६०० फुट तक ड्रिलिंग किया, किंतु वह पानी नही ला सकेआज दिन तक उस घर में रहनेवाले लोग उनकी पानी की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए टेन्करों पर निर्भर हैं, गलत सलाह के कारण उन्होने अपनी ना समझी की वजह से उन्होने खुद ही ड्रिल करवाये हुए बोरवेल का उपयोग नही किया

Leave Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

clear formSubmit